Rakesh Tikait announces no chakka jam in UP and Uttarakhand | यूपी और उत्तराखंड में नहीं होगा चक्का जाम, राकेश टिकैत ने किया ऐलान; ये है कारण

0
11

नई दिल्ली: नए कृषि कानूनों (New Farm Law) के खिलाफ किसानों ने 6 फरवरी को देश व्यापी चक्का जाम की घोषणा कर रखी है. जिसे देखते हुए दिल्ली पुलिस (Delhi Police) भी अपने स्तर पर तैयारियां करने में जुटी हुई हैं. इसी बीच चक्का जाम पर यूपी के किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) का अहम बयान सामने आया है. 

चक्का जाम के आहवान को देखते हुए राज्य सरकारें सख्त

राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि 6 फरवरी को यूपी और उत्तराखंड में चक्का जाम नहीं होगा. उन्होंने यह बयान क्यों दिया, इस बारे में अभी कुछ भी स्पष्ट नहीं हो पाया है. माना जा रहा है कि 26 जनवरी को दिल्ली में हुई व्यापक हिंसा (Farmer Violence) और सरकारों के कड़े रूख के चलते किसान नेताओं को इस बार अपना बंद के आहवान के सफल होने में आशंका है. इसलिए फ्लॉप होने के टैग से बचने के लिए बीजेपी शासित इन दोनों राज्यों में चक्का जाम का आहवान वापस ले लिया गया है. 

राकेश टिकैत ने की शांतिपूर्ण जाम की अपील

राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने समर्थकों से अपील की है कि जो लोग यहां नहीं आ पाए वो अपनी -अपनी जगहों पर कल चक्का जाम शांतिपूर्ण तरीके से करें. इससे पहले संयुक्त किसान मोर्चा के नेता बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा था कि 6 फरवरी को देशभर में आंदोलन होगा और दोपहर 12 बजे से दोपहर तीन बजे तक किसान सड़कों को ब्लॉक भी करेंगे.

26 जनवरी की हिंसा से सबक लेकर दिल्ली पुलिस भी चौकस

उधर दिल्ली पुलिस (Delhi Police) 26 जनवरी की हिंसा से सबक लेते हुए इस बार ज्यादा चौकस नजर आ रही है. दिल्ली पुलिस के डीसीपी चिन्मय बिस्वाल (Chinmay Biswal)ने कहा कि 6 फरवरी के चक्का जाम को  देखते हुए सभी संवेदनशील जगहों पर खास धयान रखा जा रहा है. जिस तरीके से 26 जनवरी को हिंसा हुई, उसे देखते हुए ज्यादा सतर्कता बरती जा रही है. इस बारे में दिल्ली पुलिस पड़ोसी राज्यों की पुलिस के संपर्क में भी है. 

ये भी पढ़ें- Farmer Violence: दिल्ली पुलिस ने कसा दंगाइयों पर शिकंजा, इन 12 चेहरों की तलाश

दिल्ली पुलिस ने 70 उपद्रवियों के फोटो जारी किए

उन्होंने कहा कि 26 जनवरी को हुई हिंसा (Farmer Violence) के सिलसिले में क्राइम ब्रांच ने अब तक 60 से 70 उपद्रवियों की तस्वीरें जारी की है. इन आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए कोशिश की जा रही है. आरोपियों की तस्वीरों को पब्लिक डोमेन में भी लाया जा रहा है. जिससे उन्हें चिन्हित करके कानून के फंदे में लाया जा सके. किसी तरह की अफवाह को रोकने के लिए दिल्ली पुलिस सोशल मीडिया पर भी लगातार नजर बनाए हुए है. 

LIVE TV



Source link