Punjab Municipal Election 2021 Result  – पंजाब निकाय चुनाव : सातों निगमों में कांग्रेस की जीत, अकाली दल व भाजपा का प्रदर्शन निराशाजनक

0
34

पंजाब के जगरांव में जीत के बाद जश्न मनाते कांग्रेसी।
– फोटो : संवाद न्यूज एजेंसी

ख़बर सुनें

पंजाब निकाय चुनाव के बुधवार को आए नतीजों में कांग्रेस को प्रचंड जीत मिली है। सात नगर निगमों में कांग्रेस ने जीत हासिल की है। मोहाली निगम का परिणाम गुरुवार को आएगा। शिरोमणि अकाली दल के लिए ये चुनाव काफी निराशाजनक रहे। वहीं भारतीय जनता पार्टी कई जगह अपना खाता तक नहीं खोल पाई। आम आदमी पार्टी भी इस बार कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर पाई। 

होशियारपुर निगम की 41 सीटें कांग्रेस के हिस्से में
नगर निगम होशियारपुर के 50 में से 41 वार्डों में कांग्रेस ने जीत दर्ज कर रिकॉर्ड बनाया है। दो बार नगर परिषद और फिर नगर निगम पर काबिज रही भाजपा को इस बार करारी हार का सामना करना पड़ा। इस चुनाव में भाजपा केवल चार सीटों पर सिमट गई।  शिरोमणि अकाली दल  खाता भी नहीं खोल सका। आम आदमी पार्टी ने दो सीटें जीतीं। तीन निर्दलीय उम्मीदवारों ने भी जीत हासिल की।  

फतेहगढ़ साहिब में भाजपाइयों के सबसे खराब हालात
फतेहगढ़ साहिब की तीन नगर काउंसिल और एक नगर पंचायत में हुए चुनावों में केंद्र की सत्ता पर काबिज भाजपा अपना खाता तक नहीं खोल सकी। भाजपा के अधिकतर उम्मीदवारों को 20 या पचास से अधिक वोट नहीं मिले। भाजपा की हार में किसान आंदोलन का असर देखने को मिला। ऐसे में सरहिंद और मंडी गोबिंदगढ़ में भाजपा का सबसे खराब रिपोर्ट सामने आई।

सरहिंद में उम्मीदवारों को 20 से कम वोट मिले। मंडी गोबिंदगढ़ के वार्ड नंबर 18 में भाजपा के उम्मीदवार विष्णु दत्त को मात्र 20 वोट मिले। वार्ड नंबर 17 में बीजेपी के उम्मीदवार कृष्ण कुमार को मात्र 20 वोट और वार्ड नंबर 24 में बीजेपी के उम्मीदवार परमजीत सिंह को जिले भर में सबसे कम मात्र 17 वोट ही मिल पाए।  
 
फाजिल्का काउंसिल भी अकालियों के हाथ से फिसली
फाजिल्का नगर काउंसिल में पिछले दस सालों से काबिज भाजपा व अकाली दल गठबंधन के  किले को आखिरकार कांग्रेस ने तोड़ने में सफलता हासिल की है। जिस कारण भी भाजपा व अकाली दल के गठबंधन तोड़कर अलग-अलग चुनाव लड़ने को माना जा रहा है। नगर कौंसिल चुनाव में कांग्रेस ने 25 में से 19 सीटों पर विजय हासिल की जबकि दूसरी तरफ भाजपा से अलग हुई शिअद इस चुनाव में अपना खाता भी नहीं खोल पाई। वहीं भाजपा के हिस्से में चार व आम आदमी पार्टी के हिस्से में दो सीटें ही आई। 

तरनतारन की पट्टी में 19 में से 15 वार्ड कांग्रेस के नाम 
तरनतारन की नगर काउंसिल पट्टी के 19 में से 15 वार्डों पर कांग्रेस ने जीत हासिल की है। बाकी चार वार्डों में से दो वार्डों में शिअद (बादल) और आम आदमी पार्टी को जीत मिली है। 

अबोहर में कांग्रेस को 49, अकाली दल को एक सीट मिली
अबोहर नगर निगम में 50 सीटों में से कांग्रेस ने 49 और अकाली दल ने एक पर जीत हासिल की। भाजपा और आम आदमी पार्टी का खाता भी नहीं खुला।  

मजीठा काउंसिल में अकालियों का दबदबा कायम  
माझा की सबसे प्रतिष्ठित मजीठा नगर काउंसिल के चुनाव में शिअद (बादल) के वरिष्ठ नेता व पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया का मजीठा विधान सभा में दबदबा कायम है। नगर काउंसिल चुनाव में 13 में से दस सीटों पर अकाली दल को जीत मिली है। इस बार कांग्रेस दो और एक वार्ड में आजाद उम्मीदवार को जीत मिली। 

अजनाला काउंसिल पर भी शिअद का कब्जा
अजनाला नगर काउंसिल चुनाव के कुल 15 वार्डों में से शिअद ने 8 पर जीत हासिल की है। कांग्रेस ने अपने गढ़ रमदास में नगर पंचायत पर कब्जा कर लिया है। 11 वार्डों पर आधारित नगर पंचायत की आठ सीटों पर कांग्रेस व तीन सीटों पर शिअद को जीत मिली है।

रैय्या नगर पंचायत में कांग्रेस ने 12 सीटों पर जीत हासिल की। अकाली दल को मात्र एक सीट पर संतोष करना पड़ा। जंडियाला गुरु नगर काउंसिल में कांग्रेस को 10 सीटों पर जीत मिली है। इस बार आम आदमी पार्टी का कोई भी उम्मीदवार चुनाव नहीं जीत सका।     
 
बठिंडा के 224 वार्डों में से 154 पर कांग्रेस विजेता
बठिंडा नगर निगम के पचास वार्डों में से 43 पर कांग्रेस, 7 पर अकाली दल के प्रत्याशियों ने जीत हासिल की। नगर काउंसिल कोठा गुरु के 11 वार्डों पर कांग्रेस का कब्जा रहा। नगर काउंसिल भगता भाईका के 13 वार्डों में से 9 पर कांग्रेस, 3 पर अकाली दल, 1 आजाद प्रत्याशी के जीत प्राप्त की। नगर काउंसिल मलूका के 11 वार्डों में से 9 पर कांग्रेसी, 2 पर अकाली दल के प्रत्याशी जीते। नगर काउंसिल भाईरूपा के 13 वार्डों में से 8 में कांग्रेस, 4 ने अकाली दल और एक में बहुजन समाज पार्टी का प्रत्याशी जीता।

नगर काउंसिल महराज की 13 सीटों में से 10 पर कांग्रेस ने, एक पर अकाली दल ने, दो पर आजाद प्रत्याशियों ने जीत हासिल की। नगर काउंसिल मौड मंडी के 17 में से 13 पर कांग्रेस, एक पर अकाली दल, 3 पर आजाद प्रत्याशियों ने जीत प्राप्त की। नगर काउंसिल रामां मंडी के 15 वार्डों में से 11 में कांग्रेस, 2 में अकाली दल और 2 में आजाद प्रत्याशी जीते। नगर काउंसिल भुच्चो मंडी के 13 वार्डों में से 11 पर कांग्रेस, 2 पर अकाली दल के प्रत्याशी जीत गए।

नगर काउंसिल नथाना के 11 वार्डों में से एक पर कांग्रेस, 3 पर अकाली दल, 3 पर आम आदमी पार्टी जबकि 4 आजाद प्रत्याशी जीते। नगर काउंसिल गोनियाना के 13 वार्टों में से 7 पर कांग्रेस और 6 आजाद प्रत्याशियों ने जीत हासिल की। नगर काउंसिल संगत के 9 वार्डों में से 2 पर कांग्रेस के प्रत्याशी जीत पाए और 7 पर अकाली दल के प्रत्याशी विजयी रहे। कोटशमीर के 13 में से 10 वार्डों में कांग्रेस, एक पर अकाली दल, 2 पर आजाद प्रत्याशी जीते। नगर काउंसिल कोटफत्ता के 11 वार्डों में से 9 पर कांग्रेस और 2 आजाद प्रत्याशियों ने जीत हासिल की। 

बरनाला, भदौड़, तपा व धनौला के नतीजे
नगर काउंसिल बरनाला के 31 में कांग्रेस को 16, अकाली दल को 4, आम आदमी पार्टी को 3 सीटें मिलीं।  आठ निर्दलीय जीते। नगर काउंसिल भदौड़ में कांग्रेस को 6, अकाली दल को तीन सीटें मिलीं। चार आजाद उम्मीदवार जीते। तपा नगर काउंसिल के 15 में से कांग्रेस को 6, अकाली दल को तीन एवं निर्दलीयों को 6 सीटें मिलीं। नगर काउंसिल धनौला के 13 वार्डों में सभी सीटों पर आजाद उम्मीदवार जीते। 

फरीदकोट व कोटकपूरा में कांग्रेस को बहुमत
फरीदकोट व कोटकपूरा नगर काउंसिलों में तो कांग्रेस को स्पष्ट बहुमत मिल गया। जैतो में सत्ता की चाबी आजाद उम्मीदवारों के हाथ में आ गई है। फरीदकोट की नगर काउंसिल के कुल 25 वार्डों में से वार्ड नंबर 2 से कांग्रेस प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित हो गया था। बाकी के 24 वार्डो के नतीजे घोषित होने के बाद अब कुल 25 में से कांग्रेस को 16 व अकाली दल को 7 सीटें मिली है। एक-एक सीट आम आदमी पार्टी व आजाद उम्मीदवार के खाते में आई है।

इसी तरह कोटकपूरा नगर काउंसिल की कुल 29 सीटों में से कांग्रेस ने 21 सीटों पर विजयी रहीष तीन सीटों पर अकाली दल और 5 सीटों पर आजाद उम्मीदवारों ने जीत का परचम फहराया। वहीं जैतो की नगर काउंसिल में कांग्रेस को निराशा हाथ लगी है। यहां की कुल 17 सीटों में से कांग्रेस ने महज 7 सीटें जीती है। बाकी सीटों में से 4 पर आजाद उम्मीदवार, 3 पर अकाली दल, 2 पर आम आदमी पार्टी व 1 सीट पर भाजपा उम्मीदवार विजयी रहा। जिला चुनाव अधिकारी कम डीसी विमल कुमार सेतिया ने बताया कि तीनों नगर काउंसिलों के लिए कुल 376 उम्मीदवार मैदान में उतरे थे। 
 
फिरोजपुर की चार नगर काउंसिलों पर कांग्रेस का कब्जा 
फिरोजपुर की चार नगर काउंसिलों पर कांग्रेस का कब्जा रहा। नगर पंचायत मुदकी पर अकाली दल और ममदोट पर कांग्रेस काबिज हुई है। फिरोजपुर नगर काउंसिल के 33 वार्ड हैं। इनमें आठ वार्ड में कांग्रेस के आठ प्रत्याशियों को निर्विरोध विजेता घोषित कर दिया था। जीरा नगर काउंसिल के 17 वार्डों पर भी कांग्रेस के प्रत्याशियों को निर्विरोध चुन लिया गया। तलवंडी भाई में 13 वार्डों में से नौ पर कांग्रेस और चार पर अकाली दल के प्रत्याशियों ने जीत हासिल की है।

गुरुहरसहाए में 15 वार्ड हैं। यहां पर अकाली दल के प्रत्याशियों ने चुनाव का बहिष्कार किया था। चार वार्ड में आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार खड़े थे। यहां से सभी सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों ने जीत हासिल की है। मुदकी नगर पंचायत में 13 सीटों पर चुनाव हुआ। यहां नौ सीटों पर अकाली दल व चार सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों ने विजयी हासिल की है। ममदोट नगर पंचायत में 12 वार्ड थे। तीन वार्ड में कांग्रेस प्रत्याशी निर्विरोध विजयी घोषित कर दिए गए थे। नौ सीटों पर दो आजाद प्रत्याशी, दो अकाली दल व पांच कांग्रेस के उम्मीदवारों ने जीत हासिल की है।  

गढ़ नहीं बचा पाए अश्वनी शर्मा, विधायक विज अपना वार्ड हारे
भाजपा का गढ़ कहे जाने वाले पठानकोट नगर निगम में कांग्रेस ने 50 में से 36 वार्डों में जीत हासिल की। भाजपा की झोली में 11 सीट आई। शिअद और निर्दलीय को एक-एक सीट से संतोष करना पड़ा।  वहीं, सुजानपुर नगर काउंसिल के 15 वार्डों में से 8 में कांग्रेस, 6 में भाजपा और 1 में आजाद उम्मीदवार ने जीत हासिल की। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी शर्मा के निवास वाले वार्ड 49 में भाजपा ने जीत हासिल की। पठानकोट के कांग्रेसी विधायक अमित विज अपना ही वार्ड हार गए। नगर काउंसिल गुरदासपुर में सभी 29 सीट कांग्रेस के खाते में गई हैं। बटाला की 50 वार्डों में से कांग्रेस का 36 पर कब्जा हो गया है।
 

दिग्गजों के हलके में क्या रहे परिणाम..

  1. बीबी हरसिमरत कौर बादल : बठिंडा में 50 वार्डों में से 43 पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की है। 53 साल बाद बठिंडा में कांग्रेस का मेयर बनेगा। भाजपा व आप का खाता ही नहीं खुला।
  2. बीबी परनीत कौर : पटियाला में 92 सीटों पर चुनाव हुए। इसमें से कांग्रेस को 66 सीटें मिलीं। अकाली दल 11, आजाद 11, भाजपा व आप 2-2 सीटों पर जीते।
  3. केंद्रीय राज्यमंत्री सोमप्रकाश : होशियारपुर में 142 सीटों पर हुए चुनाव में 101 पर कांग्रेस विजयी रही। हालांकि इनमें से 15 सीटें सांसद मनीष तिवारी के हलके में आती हैं लेकिन बाकी सीटें केंद्रीय राज्यमंत्री सोमप्रकाश के खाते की हैं।
  4. भाजपा प्रदेश प्रधान अश्वनी शर्मा : पठानकोट में 50 सीटों में से कांग्रेस को 37 सीटें मिली हैं। भाजपा को केवल 11 सीटें मिली हैं।
  5. सनी देओल : गुरदासपुर की 29 सीटें कांग्रेस ने जीत ली हैं। किसी विपक्षी पार्टी को एक भी सीट नहीं मिली है। 
  6. विक्रमजीत मजीठिया : मजीठा में अकाली दल ने स्पष्ट बहुमत हासिल किया है। 13 में से 10 सीटें अकाली दल ने जीते हैं।
  7.  सुनील जाखड़ : अबोहर में कांग्रेस ने 50 में से 49 सीटों पर जीत दर्ज की है।
कपूरथला निगम के 45 वार्डों में कांग्रेस जीती 
नगर निगम कपूरथला के कुल 50 वार्डों में से 45 में कांग्रेस ने जीत हासिल की है। यहां स्पष्ट बहुमत मिलने पर कांग्रेस अपना पहला मेयर बनाएगी। अकाली दल ने तीन वार्डों और दो में निर्दलीय प्रत्याशियों ने जीत हासिल की। आप-भाजपा खाता तक नहीं खोल सकी।  सुल्तानपुर लोधी में 10 सीटों पर कांग्रेस और 3 पर अकाली दल काबिज हुई है।  

लुधियाना की छह नगर काउंसिल पर कांग्रेस का परचम
लुधियाना के छह नगर काउंसिल के चुनाव में कांग्रेस ने जीत का परचम फहरा दिया है। नगर काउंसिल रायकोट में कांग्रेस के 15 प्रत्याशी विजयी रहे है। वहीं दोराहा में भी कांग्रेस ने कुल 11 वार्ड में 9 पर जीत हासिल की है। मुल्लांपुर दाखा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी विजयी रहा है तो साहनेवाल उपचुनाव में शिअद प्रत्याशी ने जीत दर्ज की है। छह नगर काउंसिल के 114 वार्ड में से भाजपा के सिर्फ दो प्रत्याशी जीत हासिल सके। जिल नगर काउंसिल खन्ना, जगरांव, समराला, रायकोट, दोराहा और पायल में मतदान हुआ था। नगर काउंसिल मुल्लांपुर दाखा में एक और  साहनेवाल में एक वार्ड के लिए उपचुनाव भी साथ हुआ था। कुल 114 वार्ड पर सभी पार्टी ने अपने प्रत्याशियों को खड़ा किया था। कांग्रेस के 82 प्रत्याशी विजयी हुए है, तो अकाली दल के 16, आजाद 11, आप तीन और भाजपा के दो  प्रत्याशी विजयी रहा है।  

पंजाब निकाय चुनाव के बुधवार को आए नतीजों में कांग्रेस को प्रचंड जीत मिली है। सात नगर निगमों में कांग्रेस ने जीत हासिल की है। मोहाली निगम का परिणाम गुरुवार को आएगा। शिरोमणि अकाली दल के लिए ये चुनाव काफी निराशाजनक रहे। वहीं भारतीय जनता पार्टी कई जगह अपना खाता तक नहीं खोल पाई। आम आदमी पार्टी भी इस बार कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर पाई। 

होशियारपुर निगम की 41 सीटें कांग्रेस के हिस्से में

नगर निगम होशियारपुर के 50 में से 41 वार्डों में कांग्रेस ने जीत दर्ज कर रिकॉर्ड बनाया है। दो बार नगर परिषद और फिर नगर निगम पर काबिज रही भाजपा को इस बार करारी हार का सामना करना पड़ा। इस चुनाव में भाजपा केवल चार सीटों पर सिमट गई।  शिरोमणि अकाली दल  खाता भी नहीं खोल सका। आम आदमी पार्टी ने दो सीटें जीतीं। तीन निर्दलीय उम्मीदवारों ने भी जीत हासिल की।  

फतेहगढ़ साहिब में भाजपाइयों के सबसे खराब हालात

फतेहगढ़ साहिब की तीन नगर काउंसिल और एक नगर पंचायत में हुए चुनावों में केंद्र की सत्ता पर काबिज भाजपा अपना खाता तक नहीं खोल सकी। भाजपा के अधिकतर उम्मीदवारों को 20 या पचास से अधिक वोट नहीं मिले। भाजपा की हार में किसान आंदोलन का असर देखने को मिला। ऐसे में सरहिंद और मंडी गोबिंदगढ़ में भाजपा का सबसे खराब रिपोर्ट सामने आई।

सरहिंद में उम्मीदवारों को 20 से कम वोट मिले। मंडी गोबिंदगढ़ के वार्ड नंबर 18 में भाजपा के उम्मीदवार विष्णु दत्त को मात्र 20 वोट मिले। वार्ड नंबर 17 में बीजेपी के उम्मीदवार कृष्ण कुमार को मात्र 20 वोट और वार्ड नंबर 24 में बीजेपी के उम्मीदवार परमजीत सिंह को जिले भर में सबसे कम मात्र 17 वोट ही मिल पाए।  

 

Source link