Punjab Congress Mp Alleges, Khalistanis Involved In Delhi Violence – कांग्रेस सांसद का दावा, दिल्ली बवाल के पीछे खालिस्तानियों का हाथ, तीन दिन पहले बनी थी योजना

0
66

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, लुधियाना (पंजाब)
Updated Wed, 27 Jan 2021 11:31 AM IST

सांसद रवनीत सिंह बिट्टू।
– फोटो : सोशल मीडिया

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

दिल्ली हिंसा पर पंजाब में सियासी घमासान जारी है। पंजाब से लुधियाना के कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने दावा किया है कि गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के पीछे खालिस्तानियों का हाथ है। बिट्टू का कहना है कि दिल्ली में  जो कुछ हुआ है उसकी योजना तीन दिन पहले ही बना ली गई थी।

रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि किसान आंदोलन के पीछे से खालिस्तानी नेता दीप सिद्धू अपना एजेंडा चला रहा है। गणतंत्र दिवस पर उपद्रव और हिंसा की योजना भी दीप सिद्धू ने बनाई है। रात को ही उसके लोगों ने किसानों के ट्रैक्टरों पर कब्जा जमा लिया था और शहर में घुस गए थे। फिर उसके लोगों ने अव्यवस्था फैलाई।
 

सांसद बिट्टू ने कहा है कि सरकार को इससे सख्ती के साथ निपटना चाहिए। साथ ही उन्होंने किसान नेताओं से भी अपील की है कि वे ऐसे तत्वों से खुद को अलग कर लें। इस हिंसा के पीछे रेफरेंडम 2020 और सिख फॉर जस्टिस से जुड़े लोग हैं। बिट्टू ने कहा कि किसान लीडर और पुलिस के साथ जो प्रोग्राम तय हुआ था उसको पूरी तरह से तोड़ा गया।

सिख फॉर जस्टिस नाम के संगठन का लाइव चैनल रोज अमेरिका और कनाडा में चलता है। वहां से 12 बजे लाइव होकर योजना बनाई गई कि कैसे दीप सिद्धू और रेफरेंडम 2020 वाले स्टेज पर कब्जा करेंगे और लाल किले पर झंडा लहराएंगे। किसान तो बेचारे अपनी झांकियां तैयार कर रहे थे लेकिन खालिस्तानी समर्थकों ने बिल्कुल अलग योजना बना रखी थी। 

दिल्ली हिंसा पर पंजाब में सियासी घमासान जारी है। पंजाब से लुधियाना के कांग्रेस सांसद रवनीत सिंह बिट्टू ने दावा किया है कि गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के पीछे खालिस्तानियों का हाथ है। बिट्टू का कहना है कि दिल्ली में  जो कुछ हुआ है उसकी योजना तीन दिन पहले ही बना ली गई थी।

रवनीत सिंह बिट्टू ने कहा कि किसान आंदोलन के पीछे से खालिस्तानी नेता दीप सिद्धू अपना एजेंडा चला रहा है। गणतंत्र दिवस पर उपद्रव और हिंसा की योजना भी दीप सिद्धू ने बनाई है। रात को ही उसके लोगों ने किसानों के ट्रैक्टरों पर कब्जा जमा लिया था और शहर में घुस गए थे। फिर उसके लोगों ने अव्यवस्था फैलाई।

 


सांसद बिट्टू ने कहा है कि सरकार को इससे सख्ती के साथ निपटना चाहिए। साथ ही उन्होंने किसान नेताओं से भी अपील की है कि वे ऐसे तत्वों से खुद को अलग कर लें। इस हिंसा के पीछे रेफरेंडम 2020 और सिख फॉर जस्टिस से जुड़े लोग हैं। बिट्टू ने कहा कि किसान लीडर और पुलिस के साथ जो प्रोग्राम तय हुआ था उसको पूरी तरह से तोड़ा गया।

सिख फॉर जस्टिस नाम के संगठन का लाइव चैनल रोज अमेरिका और कनाडा में चलता है। वहां से 12 बजे लाइव होकर योजना बनाई गई कि कैसे दीप सिद्धू और रेफरेंडम 2020 वाले स्टेज पर कब्जा करेंगे और लाल किले पर झंडा लहराएंगे। किसान तो बेचारे अपनी झांकियां तैयार कर रहे थे लेकिन खालिस्तानी समर्थकों ने बिल्कुल अलग योजना बना रखी थी। 

Source link