PM narendra modi makes fun in all party meet with BSP leader satish chandra Mishra | जब PM ने चुटकी लेते हुए इस नेता से कहा- ‘कहीं लोग ये न कह दें कि मोदी ने आपकी आवाज दबा दी’

0
19

नई दिल्ली: कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) के मुद्दे पर शुक्रवार को ऑनलाइन सर्वदलीय बैठक के दौरान एक दिलचस्प संवाद देखने को मिला. जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) बीएसपी (BSP) के राज्य सभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा (Satish Chandra Mishra) से बात कर रहे थे उसी दौरान तकनीकी दिक्कत के कारण उनकी आवाज नहीं सुनाई दी. इसपर पीएम मोदी ने चुटकी लेते हुए कहा कि लोग ऐसा न कह दें कि मोदी ने आवाज दबा दी. 

बता दें कि सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत में कोविड-19 का टीका कुछ सप्ताह में तैयार हो सकता है और वैज्ञानिकों की हरी झंडी मिलते ही देश में टीकाकरण अभियान शुरू कर दिया जाएगा. कोरोना वायरस की स्थिति को लेकर चर्चा के लिए बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज में जुटे स्वास्थ्यकर्मियों, अग्रिम मोर्चे पर डटे अन्य कर्मियों तथा पहले से गंभीर बीमारियों से जूझ रहे बुजुर्ग लोगों को टीकाकरण में प्राथमिकता दी जाएगी.

विपक्षी नेताओं ने भी रखी राय
इस डिजिटल बैठक में विपक्षी नेताओं ने भी अपनी राय रखी. राज्य सभा में नेता प्रतिपक्ष और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि कोरोना वायरस जैसी महामारियों से देश की आंतरिक सुरक्षा के लिए खतरा पैदा हो सकता है और ऐसे में राष्ट्रीय स्तर पर नीतियां तय करने वालों को इस चुनौती से प्रभावी ढंग से निपटना चाहिए. आजाद ने इस बात पर जोर दिया कि कोरोना वायरस का टीका किफायती दर पर और जल्द हासिल करने के लिए देश को तैयारी करनी चाहिए.

ये भी पढ़ें- Farmers Protest: किसानों का बड़ा ऐलान- 8 तारीख को भारत बंद, नहीं हटेंगे पीछे

तकनीकी खामी के चलते हुआ ऐसा 
जब BSP के राज्य सभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा बोल रहे थे उस दौरान तकनीकी दिक्कतों के चलते उनकी आवाज नहीं आ रही थी. इसपर पीएम ने मजाकिया लहजे में कहा कि तकनीकी दिक्कत को ठीक कीजिए, कहीं लोग ये न कह दें कि मोदी ने आवाज दबा दी. 

सरकार की दूसरी सर्वदलीय बैठक
कोरोना वायरस महामारी की शुरुआत के बाद संक्रमण के हालात पर चर्चा करने के लिए सरकार की ओर से आयोजित यह दूसरी सर्वदलीय बैठक थी. बैठक में स्वास्थ्य मंत्रालय ने प्रेजेंटेशन दिया. उसने कहा कि टीका आने के बाद पहले सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र में काम करने वाले करीब एक करोड़ स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जाएगा और फिर अग्रिम मोर्चे पर डटे करीब दो करोड़ कर्मियों को टीका लगाया जाएगा.

पीएम ने कहा, ‘कुछ दिन पहले भारत में टीका बनाने का प्रयास कर रहे वैज्ञानिकों के दल से काफी देर तक मेरी सार्थक बातचीत हुई. भारत के वैज्ञानिक अपनी सफलता को लेकर बहुत आश्वस्त हैं.’ उन्होंने कहा, ‘विशेषज्ञ मानकर चल रहे हैं कि कोविड-19 के टीके के लिए अब बहुत ज्यादा इंतजार नहीं करना होगा और माना जा रहा है कि यह कुछ सप्ताह में तैयार हो सकता है.’

ये भी पढ़ें- चौंकिएगा मत, भारत की इस बेटी के पास है ब्रिटेन की महारानी से भी ज्यादा संपत्ति

मोदी ने बताया कि जैसे ही वैज्ञानिकों की हरी झंडी मिलेगी भारत में कोविड-19 टीकाकरण का अभियान शुरू कर दिया जाएगा.’ प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया की नजर कम कीमत वाले सबसे सुरक्षित टीके पर है और यह स्वाभाविक है कि पूरी दुनिया की नजर भारत पर भी है.

उन्होंने कहा कि भारत के पास टीका वितरण की विशेषज्ञता और क्षमता भी दुनिया के अन्य देशों के मुकाबले बहुत बेहतर है. प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारे पास टीकाकरण के लिए दुनिया का बहुत बड़ा और अनुभवी नेटवर्क भी मौजूद है जिसका पूरा लाभ उठाया जाएगा. 

अफवाहों से रहें सावधान 
प्रधानमंत्री ने कहा कि कई बार अफवाहें फैल जाती हैं जो जनहित और राष्ट्रहित के खिलाफ होती हैं. उन्होंने कहा कि हमारी जिम्मेदारी जागरुकता फैलाने की है. मोदी ने विभिन्न दलों के नेताओं को बताया कि भारत ने एक विशेष सॉफ्टवेयर ‘को-विन’ भी बनाया है जिसमें संबंधित समस्त जानकारी होगी.

ये नेता हुए बैठक में शामिल
बैठक में संसद में विभिन्न दलों के सदन के नेताओं ने भाग लिया. कांग्रेस की ओर से अधीर रंजन चौधरी और गुलाम नबी आजाद, तृणमूल कांग्रेस की ओर से सुदीप बंधोपाध्याय, राकांपा से शरद पवार और सपा के रामगोपाल यादव ने इसमें शिरकत की. केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह, स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी भी बैठक में उपस्थित थे.

LIVE TV



Source link