Mamta Banerjee’s nephew challenges BJP, I will hang myself if proven Corrupt | ममता के भतीजे की BJP को चुनौती- ‘यदि आरोप साबित हुए तो लगा लूंगा फांसी’

0
17

कुलटाली: तृणमूल कांग्रेस (Trinmool Congress) के सांसद और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) के भतीजे अभिषेक बनर्जी (Abhishek Banerjee) ने अपने विरोधी दल भाजपा (BJP) को सीधी चुनौती देते हुए कहा कि अगर केंद्र परिवार के एक ही सदस्य के राजनीति में आने की अनुमति देने संबंधी एक कानून लेकर आएगा तो वह राजनीति छोड़ देंगे. 

विधेयक आते ही राजनीति छोड़ दूंगा

डायमंड हार्बर से सांसद बनर्जी ने कुलताली विधान सभा क्षेत्र में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि यदि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) परिवार के एक से अधिक सदस्यों के सक्रिय राजनीति में आने से रोकने के लिए एक विधेयक लेकर आते है तो अगले ही पल वह (बनर्जी) राजनीतिक अखाड़े में नहीं होंगे. उन्होंने कहा कि कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) से लेकर शुवेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) तक, मुकुल रॉय से राजनाथ सिंह तक, आपके परिवार के अन्य सदस्य हैं जो भाजपा के अहम पदों पर काबिज हैं.

आरोप साबित होने पर लगा लेंगे फांसी

बनर्जी ने आगे कहा कि अगर आप सुनिश्चित करेंगे कि परिवार का एक ही सदस्य सक्रिय राजनीति में होगा, तब तृणमूल कांग्रेस पार्टी में अगले ही पल हमारे परिवार से केवल ममता बनर्जी होंगी. यह मेरा वादा है. दरअसल, भाजपा नेताओं द्वारा उन्हें लुटेरा कहने पर निशाना साधते हुए बनर्जी ने चुनौती देते हुए कहा कि अगर वे अपने आरोपों को साबित कर देंगे तो वह सार्वजनिक रूप से फांसी पर झूल जाएंगे.

ये भी पढ़ें:- मार्केट में आ रही TATA की धांसू कार, बलेनो-हुंडई i20 को देगी टक्कर

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती पर शनिवार को विक्टोरिया मेमोरियल (Victoria Memorial) में हुई घटना का संदर्भ देते हुए बनर्जी ने कहा कि ‘जय श्रीराम’ के नारे जानबूझकर कर ममता बनर्जी को भाषण देने से रोकने के लिए लगाए गए थे. उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री की उपस्थिति में नारे लगाए जाने के बाद ममता बनर्जी ने भाषण देने से इनकार कर दिया था. 

‘बंगाल विरोध करने के लिए खड़ा होगा’

तृणमूल कांग्रेस सांसद ने कहा कि हमें गर्व है कि ममता बनर्जी ने साफ कर दिया कि सरकारी कार्यक्रम में अगर ऐसे नारों से नेताजी का अपमान किया जाएगा तो हम उसका विरोध करने के लिए खड़े होंगे. बंगाल विरोध करने के लिए खड़ा होगा. उन्होंने कहा कि आप हजार बार मंदिर में, धार्मिक कार्यक्रम में, अपने घर में जय श्रीराम के नारे लगाए लेकिन इस तरह के सरकारी कार्यक्रम में नहीं, जिसे नेताजी जैसे नायक की याद में आयोजित किया गया था. बनर्जी ने कहा कि ऐसे कार्यक्रम में उन्हें अपना बयान नहीं देने देना उन लोगों का भी अपमान है जिन्होंने उन्हें विधान सभा में चुनकर भेजा है. 

ये भी पढ़ें:- किसानों की ‘ट्रैक्टर परेड’ पर PAK आतंकी संगठनों की नजर, 308 ट्विटर हैंडल बनाए

इस बीच बनर्जी की वंशवाद की राजनीति पर की गई टिप्पणी पर भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष (Dilip Ghosh) ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस के सांसद ने पहले कभी ऐसी मांग नहीं की और अब वह ऐसा बयान दे रहे हैं क्योंकि अप्रैल-मई में होने वाले विधान सभा चुनाव में उनकी (बनर्जी) पार्टी की हार तय है.

LIVE TV



Source link