Indian,Vietnamese defence minister virtual meeting today | चीन को उसके पड़ोस में घेर रहा है भारत, इस पड़ोसी देश से बढ़ाए रणनीतिक संबंध

0
12

नई दिल्ली: लंबे समय से पाकिस्तान के आतंकवाद के संरक्षक बने हुए चीन (China) के प्रति भारत का नजरिया लद्दाख तनाव के बाद बदल गया है. वह बिना दुनिया की नजरों में आए अब चीन को उसी की चाल से एक के बाद एक पटखनी दे रहा है. जिससे वह न तो भारत (India) का कोई विरोध कर पा रहा है और न ही कोई जवाबी कदम उठा पा रहा है. अपनी इसी रणनीति पर काम करते हुए भारत अब चीन के पड़ोसी देशों के साथ अपने संबंध मजबूत करने में जुटा है. 

वियतनाम के रक्षा मंत्री से बैठक करेंगे राजनाथ सिंह
भारत की इसी बदली हुई रणनीति के तहत रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वियतनाम (Vietnam) के रक्षा मंत्री General Ngo Xuan से बात करेंगे. इस बातचीत में दोनों देशों के बीच सामरिक और रणनीतिक संबंधों को मजबूत करने पर चर्चा की जाएगी. दोनों देशों के बीच रक्षा संबंध पिछले कुछ सालों में तेजी से मजबूत हुए हैं. 

ये भी पढ़ें- वियतनाम: छोटा सा देश जहां अमेरिका को युद्ध में होना पड़ा था शर्मिंदा

भारत दे रहा है वियतनाम के सैन्य अधिकारियों को ट्रेनिंग
भारत अपने Indian Technical and Economic cooperation (ITEC) प्रोग्राम के तहत वियतनाम (Vietnam) के सैन्य अधिकारियों को ट्रेनिंग दे रहा है. फिलहाल इस प्रोग्राम में वियतनाम के लिए 70 सीट फिक्स की गई हैं. इस प्रोग्राम के तहत वहां के अधिकारी हर साल भारत में आते हैं. इसके बाद उन्हें सेना, वायु सेना और नौसेना संचालन की ट्रेनिंग के साथ ही कमांडो कार्रवाई का प्रशिक्षण भी दिया जाता है.

LIVE TV

वियतनाम के सैन्य उत्पादन उद्योग को बढावा दे रहा है भारत
भारत और वियतनाम (India-Vietnam) के बीच पिछले साल अक्टूबर में Ho Chin Minh शहर में सचिव स्तर की 12वीं शिखर वार्ता आयोजित की गई थी. इस बैठक में दोनों देशों के रक्षा और अन्य द्विपक्षीय संबंधों को और आगे बढ़ाने की घोषणा की गई. फिलहाल दोनों देश रक्षा उद्योग में सहयोग बढ़ाने पर फोकस कर रहे हैं. इसके तहत भारत ने वियतनाम (Vietnam) के स्थानीय रक्षा उत्पादन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए 600 मिलियन डॉलर की क्रेडिट लाइन दी है. 

चीन से मुकाबले के लिए दोनों देशों में बढ़ रही है दोस्ती
दोनों देशों के बीच बढ़ती इस दोस्ती का सबसे बड़ा कारण चीन है. भारत जहां LaC और पूर्वी लद्दाख में चीन की दादागिरी का मुकाबला कर रहा है. वहीं वियतनाम (Vietnam) दक्षिण चीन सागर में चीन के तानाशाही रवैये से जूझ रहा है. इस इलाके में चीन अपने पड़ोसी वियतनाम समेत सभी 12 देशों के दावे को खारिज कर दक्षिण चीन सागर पर अपना एकाधिकार जता रहा है. 

वियतनाम के जरिए ASEAN में प्रभाव बढ़ा रहा है भारत
चीन से उभरते इसी बड़े खतरे को देखते हुए दोनों देश Indo Pacific अवधारणा पर काम करते हुए रक्षा, अर्थव्यवस्था, सांस्कृतिक समेत तमाम क्षेत्रों में आपसी सहयोग बढ़ा रहे हैं. दक्षिण पूर्वी 10 देशों का संगठन ASEAN भी अब Indo Pacific अवधारणा के नजदीक आने लगा है. वियतनाम (Vietnam) भी इस संगठन का महत्वपूर्ण सदस्य है. ऐसे में वियतनाम के जरिए भारत का इस संगठन में भी धीरे-धीरे प्रभाव बढ़ रहा है. जिससे चीन लगातार असहज महसूस कर रहा है. 



Source link