Financier Commits Suicide After Shooting Wife And Son In Amritsar Of Punjab – पंजाब : कारोबार में घाटे से परेशान फाइनेंसर ने पत्नी और बेटे को गोली मारी, फिर जान दे दी

0
34

अमृतसर में पत्नी-बेटे की हत्या के बाद फाइनेंसर ने की आत्महत्या।
– फोटो : फाइल फोटो

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

अमृतसर के मेहता रोड क्षेत्र में स्थित श्री गुरु तेग बहादुर नगर में एक फाइनेंसर ने पहले अपने पांच साल के बेटे की हत्या कर दी और फिर अपनी पत्नी को गोली मार दी। इसके बाद उसने आत्महत्या कर ली।जानकारी के अनुसार, कारोबार में भारी नुकसान की वजह से फाइनेंसर बेहद परेशान था। घटना के बारे में पता चलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। एडीसीपी हरपाल सिंह ने बताया कि तीनों शवों को कब्जे में ले लिया गया है। परिवार के संगे संबंधी और रिश्तेदार देर रात घटनास्थल पर पहुंच गए।

विक्रमजीत सिंह मान पेशे से फाइनेंसर था। उसका मार्केट में काफी पैसा लगा हुआ था। कोरोना का हाल के दौरान मार्केट में उसका लाखों रुपया फंस गया। बताया जा रहा है कि उसे कई लोगों का लाखों रुपये का भुगतान भी करना था। लोग उसे भुगतान के लिए तंग करने लगे थे। 

विक्रमजीत को लगने लगा था कि अब उसके पैसे मार्केट में डूबने लगे हैं। इसी कारण वह पिछले 2 महीने से काफी परेशान था। श्री गुरु तेग बहादुर नगर में कोठी नंबर 127 में विक्रमजीत सिंह मान ने सोमवार देर रात पहले पांच साल के बेटे को गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद उसने अपनी पत्नी को गोली मारी और फिर खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली।

पुलिस को मौके से एक सुसाइड नोट भी मिला है। इसमें लिखा है कि कोरोना काल के दौरान लगे लॉकडाउन की वजह से उसे काफी घाटा हो गया था। इसके बाद भी उसने कारोबार को संभालने की कोशिश की, लेकिन इसमें कामयाब नहीं हुआ। इस कारण वह खुद की और अपने परिवार की जीवन लीला समाप्त कर रहा है।

अमृतसर के मेहता रोड क्षेत्र में स्थित श्री गुरु तेग बहादुर नगर में एक फाइनेंसर ने पहले अपने पांच साल के बेटे की हत्या कर दी और फिर अपनी पत्नी को गोली मार दी। इसके बाद उसने आत्महत्या कर ली।जानकारी के अनुसार, कारोबार में भारी नुकसान की वजह से फाइनेंसर बेहद परेशान था। घटना के बारे में पता चलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। एडीसीपी हरपाल सिंह ने बताया कि तीनों शवों को कब्जे में ले लिया गया है। परिवार के संगे संबंधी और रिश्तेदार देर रात घटनास्थल पर पहुंच गए।

विक्रमजीत सिंह मान पेशे से फाइनेंसर था। उसका मार्केट में काफी पैसा लगा हुआ था। कोरोना का हाल के दौरान मार्केट में उसका लाखों रुपया फंस गया। बताया जा रहा है कि उसे कई लोगों का लाखों रुपये का भुगतान भी करना था। लोग उसे भुगतान के लिए तंग करने लगे थे। 

विक्रमजीत को लगने लगा था कि अब उसके पैसे मार्केट में डूबने लगे हैं। इसी कारण वह पिछले 2 महीने से काफी परेशान था। श्री गुरु तेग बहादुर नगर में कोठी नंबर 127 में विक्रमजीत सिंह मान ने सोमवार देर रात पहले पांच साल के बेटे को गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद उसने अपनी पत्नी को गोली मारी और फिर खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली।

पुलिस को मौके से एक सुसाइड नोट भी मिला है। इसमें लिखा है कि कोरोना काल के दौरान लगे लॉकडाउन की वजह से उसे काफी घाटा हो गया था। इसके बाद भी उसने कारोबार को संभालने की कोशिश की, लेकिन इसमें कामयाब नहीं हुआ। इस कारण वह खुद की और अपने परिवार की जीवन लीला समाप्त कर रहा है।

Source link