Farmers Protest: Yogi government instructs officials to remove agitating farmers from the border | Farmers Protest: आंदोलनकारी किसानों के खिलाफ UP सरकार का सख्त एक्शन, बॉर्डर खाली कराने के दिए निर्देश

0
10

नई दिल्ली: गणतंत्र दिवस (Republic Day) के मौके पर देश की राजधानी में किसानों द्वारा की गई हिंसा के बाद केंद्र सरकार ने सख्ती शुरू कर दी है. गुरुवार की सुबह से ही दिल्ली के सभी बॉर्डर पर हलचल तेज हो गई है, भारी संख्या में पुलिसबल तैनात कर दिए गए हैं. अब सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि किसानों के खिलाफ उत्तर प्रदेश (Utter Pradesh) सरकार ने बड़ा एक्शन लेने का फैसला कर लिया है. सूत्रों का कहना है कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार एनसीआर (NCR) समेत अलग-अलग जिलों में चल रहे किसानों के धरने को खत्म कराएगी. 

आंदोलन कर रहे किसानों को हटाने के निर्देश

योगी सरकार ने धरना प्रदर्शन कर रहे किसानों को जिलों के बॉर्डर से हटाया जाएगा. न मानने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई होगी. इसे लेकर सभी जिलाधिकारी व पुलिस कप्तानों को सख्त निर्देश जारी कर दिए गए हैं. गृह विभाग की तरफ से सभी अधिकारियों को इसके निर्देश दे दिए गए हैं.

किसानों के खिलाफ सड़कों पर उतरे लोग

26 जनवरी को जो हुए उससे देशभर में गुस्सा है. जो लोग अब कर किसानों का साथ दे रहे थे, तिरंगे के अपमान के बाद से वो भी बेहद नाराज हैं. बॉर्डर खाली कराने के लिए लोग किसानों के खिलाफ सड़कों पर उतर गए हैं. गाजियाबाद बॉर्डर पर आसपास के लोगों ने किसानों के खिलाफ हंगामा शुरू कर दिया है. किसानों और लोगों में बहस शुरू हो गई है. यहां तिरंगे के अपमान और ट्रैफिक जाम का मुद्दा गरमाया हुआ है.

ये भी पढ़ें- खाली होने वाले हैं दिल्ली के बॉर्डर? सिंघु और गाजीपुर बॉर्डर पर जबरदस्त हलचल

नगर निगम ने हटा दीं सुविधाएं

गाजीपुर बॉर्डर पर पुलिस बल बढ़ा दिया गया है. बॉर्डर पर पुलिस फ्लैग मार्च कर रही है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक गाजियाबाद नगर निगम के सूत्रों के मुताबिक गाजीपुर बॉर्डर पर नगर निगम द्वारा दी गई  सुविधाओं को हटा लिया गया है. जैसे सफाई कर्मचारी, पानी की सुविधा, और टॉयलेट. सिर्फ दो टॉयलेट रखा गया है. इससे पहले बुधवार शाम को गाजीपुर बॉर्डर इलाके में बिजली काट दी गई. इस पूरे इलाके में अचानक पुलिस फोर्स बढ़ा दी गई. 

LIVE TV

किसानों का आरोप- पुलिस ने बरसाईं लाठियां

उधर, यूपी के बागपत जिले में कृषि कानूनों के विरोध में पिछले 40 दिन से डटे किसानों ने आरोप लगाया कि पुलिस ने लाठीचार्ज करके उन्हें खदेड़ दिया. किसानों का आरोप है कि पुलिस ने उनके टेंट भी उखाड़े. इस दौरान किसानों को चोट भी आई हालांकि बागपत के एडीएम ने इन आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि किसी तरह का बल प्रयोग नहीं किया. उन्होंने कहा कि बहुत शांतिपूर्ण ढंग से धरना खत्म कराया गया. हालांकि पुलिस के किसानों को हटाने का एक वीडियो सामने आया है जिसमें लाठीचार्ज होता दिख रहा है. किसान नेता ब्रजपाल सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है. 



Source link