Coronavirus झारखंड में कोरोना से तीसरी मौत, पति की भी संक्रमण से गई थी जान; परिवार में 4 संक्रमित

0
81

रांची, । Jharkhand Coronavirus News Update झारखंड में कोरोना वायरस से एक और मौत हो गई है। मृतक महिला है और इसके पति की मौत भी कोरोना वायरस से हुई थी। अब इस तरह से राज्‍य में कोरोना वायरस से मृतकों की संख्‍या तीन हो गई है। रांची में कोरोना वायरस से संक्रमित दूसरी मरीज 54 वर्षीय महिला की मौत हो गई है। पति की पहले ही कोरोनावायरस से ही मौत हुई है। बताया जाता है कि महिला किडनी की समस्या से पीड़ित थी। उसे 6 अप्रैल को रिम्स में भर्ती किया गया था। उस महिला का रिम्स में 2 बार डायलिसिस किया गया था। इसके परिवार में चार सदस्य कोरोना से संक्रमित हैं और चारों रिम्स में ही भर्ती हैं।

हिंदपीढ़ी की रहने वाली थी महिला

राज्य में कोरोनावायरस के कारण मौत की संख्या 3 हो गई। रिम्स के ट्रॉमा सेंटर स्थित कोविड वार्ड में भर्ती हिन्दपीढ़ी की रहने वाली 54 वर्षीय महिला की मंगलवार की सुबह मौत हुई है। महिला किडनी की समस्या से पीड़ित थी। बीते 2 अप्रैल को बारियातू के नेफ्रॉन क्लीनिक में डायलिसिस कराने के बाद डॉक्टर की सलाह पर कोरोना का जांच कराया गया था। 6 अप्रैल को रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उसे रिम्स में भर्ती कराया गया। भर्ती कराने के बाद धर्म समय दो बार इसकी डायलिसिस की जा चुकी थी। हालांकि डॉक्टरों के अनुसार डायलिसिस के बाद भी इसके स्थिति में ज्यादा सुधार नहीं था। मिली जानकारी के अनुसार मौत का कारण किडनी फैलियर बताया जा रहा है। बता दें कि बीते 12 अप्रैल को इस महिला के पति की भी कोरोना के कारण मौत हो चुकी है।

तीन बेटा व पोता रिम्स में भर्ती

महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद परिवार के 8 सदस्य की जांच की गई थी। जांच में महिला के पति, तीन बेटे व 8 साल के पोते में कोरोना के संक्रमण की पुष्टि हुई थी। बीते दिनों पति के मौत के बाद महिला काफी सदमे में थी। पति के मौत के 9 दिन के बाद पत्नी की भी मौत हो गई।

पूरा परिवार अब सदमे में, रिम्स में सप्ताह में एक ही बार हो रहा था डायलिसिस

रिम्स में भर्ती महिला के बेटे मो. वसीम में बताया कि पूरा परिवार पिता की मौत के बाद सदमे में था। सदमे से उभरने से पहले ही परिवार में दूसरी मौत हो गई। पिता के बाद कोरोना के कारण मां का भी साया उठ गया। उसने कहा कि रिम्स में उसकी मां का इलाज सही ढंग से नहीं किया जा रहा था। सप्ताह में 2 बार डायलिसिस के किया जाता था। जबकि रिम्स में इतनी गंभीर होने के बाद भी सप्ताह में  एक ही बार डायलिसिस किया जा रहा था। रिम्स में भर्ती होने के बाद से 4 बार डायलिसिस किया जाना था, जबकि सिर्फ 2 बार ही किया गया। स्थिति गंभीर होने के बाद भी आईसीयू में भर्ती नहीं किया गया था।

फिलहाल झारखंड में कोरोना संक्रमण के 46 मामले हो चुके हैं। इसमें यह तीसरी मौत है। राज्य में कोरोना संक्रमण से पहली मौत बोकारो में हुई थी। इसके बाद रांची के हिंदपीढ़ी के रहने वाले बुजुर्ग की मौत कोरोना वायरस के कारण हो गई थी। आज उसकी पत्‍नी की मौत भी कोरोना वायरस के कारण हुई। राज्‍य में कोरोना वायरस के सबसे ज्‍यादा मामले रांची के हिंदपीढ़ी से है। अब हिंदपीढ़ी से कोरोना से दूसरी मौत भी हो गई है।

बता दें कि रांची में कोरोना वायरस के 25 मरीज सामने आए हैं। इसमें एक मलेशियाई महिला का रिपोर्ट सोमवार को निगेटिव आया है। यानि कि वह कोरोना से स्‍वस्‍थ हो गई है। इसी मलेशियाई महिला से ही आज कोरोना से मरी महिला भी संक्रमित हुई थी। मृतक महिला के कारण ही इसके परिवार में अन्‍य लोग संक्रमित हुए। इसके बाद इसके पति की भी कोरोना से मौत हो गई। पति की मौत के बाद उसके शव को दफनाने के लिए बड़ा हंगामा हुआ था। लोग उसके कोरोना संक्रमित होने के कारण शव को शहर के अंदर दफनाने से रोक रहे थे।

इंडिग्रेटेड डिजिज सर्विलांस प्रोग्राम (आइडीएसपी) की तरफ से रांची में अब तक 967 कोरोना संदिग्धों की पहचान हुई है। पूरे झारखंड में ऐसे संदिग्ध लोगों की संख्या 3766 है। आइडीएसपी की ओर से यह सूची कंटेनमेंट प्लान, कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और संदिग्ध लोगों के आइसोलेशन के आधार पर तय की गई है। संदिग्धों की यह संख्या 18 अप्रैल तक के आंकड़ों पर आधारित है।