Bjp Tiranga Yatra Canceled In Ludhiana – पंजाब : लुधियाना में भाजपा की तिरंगा यात्रा का विरोध, तनाव बढ़ता देख रद्द की गई यात्रा

0
27

लुधियाना में भाजपा की तिरंगा यात्रा का विरोध करते लोग।
– फोटो : संवाद न्यूज एजेंसी

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

पंजाब में तिरंगा यात्रा निकालने की तैयारी कर रहे भाजपाई और किसान समर्थक शनिवार की शाम आमने-सामने हो गए। इससे माहौल तनावपूर्ण हो गया। एक बार माहौल इतना गरमा गया कि लगा, किसी भी समय दोनों पक्ष भिड़ सकते हैं। पुलिस अधिकारियों ने भाजपा नेताओं को समझाने का प्रयास किया। बाद में भाजपा नेताओं ने यात्रा को रद्द करने का फैसला लिया। डीसीपी अश्वनी कपूर और एडीसीपी प्रज्ञा जैन खुद पूरे मामले पर नजर रख रहे थे।

लुधियाना में भाजपा युवा मोर्चा प्रधान कुशाग्र कश्यप ने शनिवार शाम लुधियाना में तिरंगा यात्रा निकालने का एलान किया था। यात्रा शाम 4.30 बजे निगम जोन ए दफ्तर के बाहर से शुरू होकर मीना बाजार, गिरजाघर चौक, साबुन बाजार, केसर गंज मंडी चौक, रेखी सीनेमा से होते हुए घंटा घर चौक से माता रानी चौक स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा पर खत्म होनी थी।

जैसे किसान आंदोलन समर्थकों को इस बात की भनक लगी, उन्होंने विरोध की रणनीति तैयार कर ली। दोपहर बाद अकालगढ़ मार्केट प्रधान मनप्रीत बंटी, यूथ अकाली नेता संजीव चौधरी की अगुवाई में किसान समर्थक एकत्र होना शुरू हो गए। 

दूसरी तरफ भाजपा नेता भी तिरंगा यात्रा में शामिल होने के लिए मौके पर पहुंचना शुरू हो गए। कुछ किसान समर्थक पहले से ही एक होटल के अंदर छुपकर बैठ गए थे। जैसे तिरंगा यात्रा शुरू हुई, किसान समर्थक बाहर निकल आए। घंटा घर चौक के ऊपर से गुजरते एलिवेटेड रोड पर भी कुछ किसान समर्थक पहले से जमा हो चुके थे, जिन्होंने भाजपा के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। स्थिति को तनावपूर्ण होता देख भाजपा ने तिरंगा यात्रा को रद्द करने का फैसला लिया। 

भाजपा जिला प्रधान पुष्पेंद्र सिंगल ने बताया कि प्रदेश हाईकमान की तरफ से उन्हें तिरंगा यात्रा निकालने का प्रोग्राम मिला था। शनिवार शाम 4.30 बजे यात्रा निकालने की पूरी तैयारी हो चुकी थी। शाम चार बजे प्रदेश प्रधान अश्वनी शर्मा का फोन उन्हें आया और यात्रा को स्थगित करने का निर्देश दिए। इसलिए उन्होंने मौके पर तिरंगा यात्रा को स्थगित कर दिया है। जैसे आगे हाईकमान दोबारा प्रोग्राम देगा, वह जरूर करेंगे।

पंजाब में तिरंगा यात्रा निकालने की तैयारी कर रहे भाजपाई और किसान समर्थक शनिवार की शाम आमने-सामने हो गए। इससे माहौल तनावपूर्ण हो गया। एक बार माहौल इतना गरमा गया कि लगा, किसी भी समय दोनों पक्ष भिड़ सकते हैं। पुलिस अधिकारियों ने भाजपा नेताओं को समझाने का प्रयास किया। बाद में भाजपा नेताओं ने यात्रा को रद्द करने का फैसला लिया। डीसीपी अश्वनी कपूर और एडीसीपी प्रज्ञा जैन खुद पूरे मामले पर नजर रख रहे थे।

लुधियाना में भाजपा युवा मोर्चा प्रधान कुशाग्र कश्यप ने शनिवार शाम लुधियाना में तिरंगा यात्रा निकालने का एलान किया था। यात्रा शाम 4.30 बजे निगम जोन ए दफ्तर के बाहर से शुरू होकर मीना बाजार, गिरजाघर चौक, साबुन बाजार, केसर गंज मंडी चौक, रेखी सीनेमा से होते हुए घंटा घर चौक से माता रानी चौक स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा पर खत्म होनी थी।

जैसे किसान आंदोलन समर्थकों को इस बात की भनक लगी, उन्होंने विरोध की रणनीति तैयार कर ली। दोपहर बाद अकालगढ़ मार्केट प्रधान मनप्रीत बंटी, यूथ अकाली नेता संजीव चौधरी की अगुवाई में किसान समर्थक एकत्र होना शुरू हो गए। 

दूसरी तरफ भाजपा नेता भी तिरंगा यात्रा में शामिल होने के लिए मौके पर पहुंचना शुरू हो गए। कुछ किसान समर्थक पहले से ही एक होटल के अंदर छुपकर बैठ गए थे। जैसे तिरंगा यात्रा शुरू हुई, किसान समर्थक बाहर निकल आए। घंटा घर चौक के ऊपर से गुजरते एलिवेटेड रोड पर भी कुछ किसान समर्थक पहले से जमा हो चुके थे, जिन्होंने भाजपा के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। स्थिति को तनावपूर्ण होता देख भाजपा ने तिरंगा यात्रा को रद्द करने का फैसला लिया। 

भाजपा जिला प्रधान पुष्पेंद्र सिंगल ने बताया कि प्रदेश हाईकमान की तरफ से उन्हें तिरंगा यात्रा निकालने का प्रोग्राम मिला था। शनिवार शाम 4.30 बजे यात्रा निकालने की पूरी तैयारी हो चुकी थी। शाम चार बजे प्रदेश प्रधान अश्वनी शर्मा का फोन उन्हें आया और यात्रा को स्थगित करने का निर्देश दिए। इसलिए उन्होंने मौके पर तिरंगा यात्रा को स्थगित कर दिया है। जैसे आगे हाईकमान दोबारा प्रोग्राम देगा, वह जरूर करेंगे।

Source link