Beating Retreat 2020 Live: सेना की बैरक वापसी का प्रतीक है बीटिंग रिट्रीट, पीएम मोदी और राष्ट्रपति हैं मौजूद

0
336

नई दिल्ली, एनएनआइ। देश की राजधानी दिल्ली में हर वर्ष गणतंत्र दिवस के बाद 29 जनवरी की शाम को ‘बीटिंग द रिट्रीट’ (Beating The Retreat) सेरेमनी का आयोजन किया जाता है। रायसीना रोड पर राष्ट्रपति भवन के सामने इसका प्रदर्शन किया जा रहा है।

चार दिनों तक चलने वाले गणतंत्र दिवस समारोह का समापन बीटिंग रिट्रीट के साथ ही होता है। 26 जनवरी के गणतंत्र दिवस समारोह की तरह Beating Retreat कार्यक्रम भी देखने लायक होता है।

ANI

@ANI

Live from Delhi: Beating Retreat ceremony at Vijay Chowk https://www.pscp.tv/w/cQFnPDFwempNQm9XYmtWRWR8MXluSk9wRVJPa3l4UvDV7H7dGIK1RDePVaXzmB9Af0g_cZ18grc7KR33g7Ip 

ANI @ANI_news

#WATCH Live from Delhi: Beating Retreat ceremony at Vijay Chowk

pscp.tv

72 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं

Beating Retreat 2020 Live:

ANI

@ANI

Delhi: Beating Retreat ceremony at Vijay Chowk; The ceremony is being performed by three wings of the Indian Armed Forces.

Twitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखेंTwitter पर छबि देखें
24 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं

– बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी बहुत पुरानी परंपरा है। इसे सूरज ढलने के बाद मनाते हैं। भारत में बीटिंग रिट्रीट की शुरुआत साल 1950 में हुई थी।

– विजय चौक पर बीटिंग रिट्रीट समारोह हो रहा है। समारोह भारतीय सशस्त्र बलों के तीन विंगों द्वारा किया जा रहा है।

– ‘Beating The Retreat Ceremony’ सेना की बैरक वापसी का प्रतीक है। दुनियाभर में बीटिंग रिट्रीट की परंपरा रही है। लड़ाई के दौरान सेनाएं सूर्यास्त होने पर हथियार रखकर अपने कैंप में जाती थीं, तब एक संगीतमय समारोह होता था, इसे बीटिंग रिट्रीट कहा जाता है।

  • विजय चौक पर राष्ट्रपति के आते ही उन्हें नेशनल सैल्यूट दिया गया। इसी दौरान तिरंगा फैरान के साथ राष्ट्रगान जन गण मन किया गया। इसके साथ ही थल सेना, वायु सेना और नौसेना, तीनों के बैंड मिलकर पारंपरिक धुन के साथ मार्च कर रहे हैं।
  • राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद भी विजय चौक पर बीटिंग रिट्रीट समारोह के लिए पहुंचे चुके हैं।

– बीटिंग रिट्रीट पर पहली बार बंदे मातरम की धुन बजाई गई।

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बीटिंग रिट्रीट समारोह के लिए विजय चौक पहुंचे हुए हैं।