Asaduddin Owaisi arrives in Gujarat’s civic elections| बीजेपी के गढ़ में पहुंचकर बोले असदुद्दीन ओवैसी, मैं राजनीति की लैला हूं

0
24

अहमदाबाद: हैदराबाद नगर निगम के चुनाव के बाद अब गुजरात (Gujrat) के निकाय चुनाव (Local Body Election) राष्ट्रीय राजनीति का अखाड़ा बनते जा रहे हैं. AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) इन चुनावों में भाग लेने के लिए गुजरात पहुंच गए हैं. 

गुजरात की ‘बी’ टीम बताने पर नाराजगी

गुजरात पहुंचने पर AIMIM को बीजेपी की ‘बी’ टीम बताने पर ओवैसी (Asaduddin Owaisi) नाराज हो गए. उन्होंने कहा कि मैं राजनीति की लैला हूं. पिछले 20 सालों में गुजरात में कांग्रेस लगातार हारती आ रही है जबकि हमारी पार्टी अब तक यहां चुनाव नहीं लड़ रही थी. ओवैसी ने भरूच और अहमदाबाद में चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए लोगों को गुजरात में हुए दंगों की याद दिलाई. 

ओवैसी ने दिलाई गुजरात दंगों की याद

ओवैसी ने कहा कि दंगों के बाद वे करीब 25 डॉक्टरों की टीम और 50 लाख रुपये की दवाई लेकर यहां पहुंचे थे. इसके बाद अहमदाबाद और अन्य इलाकों में मेडिकल कैंप लगाकर उनकी टीम ने करीब 10 हजार लोगों की मदद की थी. 

बीजेपी-कांग्रेस से नाराज भारतीय ट्राइबल पार्टी

निकाय चुनाव (Local Body Election) में ताल ठोक रहे भारतीय ट्राइबल पार्टी के नेता छोटू भाई वसावा भी बीजेपी और कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि दोनों ही पार्टियां एससी- एसटी, ओबीसी और आदिवासी विरोधी हैं. वसावा ने कहा कि आदिवासियों को जल, जंगल, जमीन के अधिकार नहीं मिल रहे हैं. उन्हें अपने ही घरों से निकाला जा रहा है.  

गुजरात के निकाय चुनावों में AAP एंट्री

इस बार गुजरात (Gujrat) के निकाय चुनावों (Local Body Election) में आम आदमी पार्टी (AAP) भी एंट्री करने जा रही है. सूरत और अहमदाबाद में पार्टी के सांसद संजय सिंह तथा दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया एक बार चुनाव प्रचार कर चुके हैं. बता दें कि अगले कुछ दिनों में अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा, राजकोट, जामनगर और भावनगर महानगर पालिका के चुनाव होने जा रहे हैं. 

ये भी पढ़ें- Farmers Protest: Asaduddin Owaisi का सरकार पर निशाना, पूछा- लद्दाख में क्यों नहीं लगवाईं कीलें?

कांग्रेस के लिए प्रदर्शन बेहतर करना चुनौती

सूरत की वराछा और आसपास के क्षेत्रों की 28 सीट में से कांग्रेस ने 21 सीटें जीती थी. इस बार उस पर प्रदर्शन बेहतर करने की चुनौती है. लेकिन AIMIM और AAP जैसी पार्टियों के कूद पड़ने से उसके लिए बेहतर कर पाना मुश्किल हो रहा है. 

LIVE TV



Source link