HomeNEWSPunjabAmid Tension at china border, Indian Air Force likely to receive 2nd...

Amid Tension at china border, Indian Air Force likely to receive 2nd batch of Rafale fighter jets next month | चीन से तनातनी के बीच आई बड़ी खबर, अगले महीने भारत आएगा राफेल विमानों का दूसरा बेड़ा


नई दिल्ली: लद्दाख बॉर्डर पर चीन के साथ जारी तनातनी के बीच भारत के लिए एक अच्छी खबर आई है. भारत के रक्षा क्षेत्र को जल्द और मजबूती मिलने वाली है. जानकारी के मुताबिक 4 राफेल लड़ाकू विमानों (Rafale Fighter Jets) का दूसरा बेड़ा अगले महीने भारत पहुंच सकता है. बता दें कि पांच राफेल विमानों का पहला बेड़ा 29 जुलाई को भारत आ चुका है जिन्हें 10 सितंबर को वायुसेना में शामिल कर लिया गया. 

राफेल लड़ाकू विमानों के दूसरे बेड़े को शामिल करने की तैयारियों के तहत भारतीय वायुसेना ने साजो-सामान संबंधी मुद्दों को देखने और वहां सेंट-डिजियर वायुसेना केंद्र पर चुनिंदा पायलटों के प्रशिक्षण की समीक्षा के लिए अधिकारियों के एक दल को फ्रांस भेजा है.

अगले महीने भारत आएंगे 4 राफेल
चार राफेल विमानों का दूसरा बेड़ा अगले चार सप्ताह में भारत पहुंच सकता है. पांच राफेल विमानों का पहला बेड़ा 29 जुलाई को भारत पहुंचा था. इससे करीब चार साल पहले भारत ने फ्रांस के साथ 59,000 करोड़ रुपये की लागत से, ऐसे 36 विमान खरीदने के लिए करार किया था.

ये भी पढ़ें- Xi Jinping को हो गया कोरोना? मंच पर हुआ कुछ ऐसा, दहशत में आ गए आस-पास के लोग

अधिकारियों ने कहा कि वायुसेना के कई दल जनवरी से अब तक फ्रांस का दौरा कर भारत केंद्रित शस्त्र प्रणालियों को शामिल करने सहित, राफेल परियोजना की प्रगति का अवलोकन कर चुके हैं. वायुसेना के राफेल परियोजना प्रबंधन दल का एक दफ्तर पेरिस में है जिसके प्रमुख ग्रुप कैप्टन रैंक के एक अधिकारी हैं. अधिकारियों ने कहा कि एयर स्टाफ के सहायक प्रमुख (परियोजना) के नेतृत्व में विशेषज्ञों का एक दल इस सप्ताह की शुरुआत में फ्रांस पहुंचा था.

2023 तक 36 राफेल विमानों का लक्ष्य
राफेल विमानों के पहले बैच को 10 सितंबर को वायुसेना में शामिल किया गया था. वायुसेना प्रमुख आर के एस भदौरिया ने पांच अक्टूबर को कहा था कि 2023 तक सभी 36 राफेल विमान वायुसेना में शामिल कर लिए जाएंगे.

अभी तक भारत को दस राफेल लड़ाकू विमानों की आपूर्ति की जा चुकी है जिनमें से पांच विमानों को वायुसेना के पायलटों को प्रशिक्षण देने के लिए फ्रांस में रोका गया है.

(इनपुट- भाषा)



Source link

Must Read

spot_img
%d bloggers like this: