निजी अस्पतालों में इलाज सरकारी अस्पतालों से 7 गुना महंगा

0
407

देश के निजी क्षेत्र के अस्पतालों में लोगों को इलाज कराना सरकारी अस्पतालों की तुलना में 7 गुना अधिक खर्चीला पड़ता है। यह बात राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एन.एस.ओ.) की एक सर्वेक्षण रिपोर्ट में सामने आई है। इसमें प्रसव के मामलों पर खर्च के आंकड़े शामिल नहीं किए गए हैं।

यह आंकड़ा जुलाई- जून 2017-18 की अवधि के सर्वेक्षण पर आधारित है। राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण (एन.एस.एस.) की 75वें दौर की ‘परिवारों का स्वास्थ्य पर खर्च’ संबंधी सर्वेक्षण रिपोर्ट शनिवार को जारी की गई।

इसके अनुसार इस दौरान परिवारों का सरकारी अस्पताल में इलाज कराने का औसत खर्च 4,452 रुपए रहा। जबकि निजी अस्पतालों में यह खर्च 31,845 रुपए बैठा।

28% प्रसव मामलों में किया गया आप्रेशनसरकारी अस्पतालों में मात्र 17% प्रसव के मामलों में आप्रेशन किया, जिनमें 92% आप्रेशन मुफ्त किए गए।

निजी अस्पताओं में 55% प्रसव के मामलों में आप्रेशन किया गया और इनमें केवल एक प्रतिशत आप्रेशन मुफ्त किए गए।