HomeNEWSPunjabसऊदी अरब ने जी-20 सम्मेलन से पहले सुलझाया गलत नक्शे वाला विवाद,...

सऊदी अरब ने जी-20 सम्मेलन से पहले सुलझाया गलत नक्शे वाला विवाद, वापस लिया बैंक नोट

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस विवादित नोट को वापस लेने के अलावा उसकी छपाई को भी बंद कर दिया गया है. (फ़ाइल फोटो)

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस विवादित नोट को वापस लेने के अलावा उसकी छपाई को भी बंद कर दिया गया है. (फ़ाइल फोटो)

Saudi Arabia: मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस विवादित नोट को वापस लेने के अलावा उसकी छपाई को भी बंद कर दिया गया है


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 20, 2020, 10:22 AM IST

नई दिल्ली. जी-20 सम्मेलन से ठीक पहले सऊदी अरब (Saudi Arabia) ने भारत के गलत नक्शे (India Map) वाले विवाद को सुलझा लिया है. वहां की सरकार ने 20 रियाल के उस बैंकनोट को वापस ले लिया है जिस पर भारत का गलत नक्शा छापा गया था.  इस नोट में अविभाजित जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) और लद्दाख (Ladakh) को भारत से अलग दिखाया गया था. नोट पर छपे नक्शे को लेकर भारत ने कड़ी आपत्ति जताई थी.

भारत ने उठाया था मुद्दा
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस विवादित नोट को वापस लेने के अलावा उसकी छपाई को भी बंद कर दिया गया है. बता दें कि 28 अक्टूबर को रियाद में भारत के राजदूत औसाफ सईद ने नोट पर गलत नक्शे का मुद्दा उठाया था. पिछले दिनों विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने भी सऊदी अधिकारियों के साथ गलत नक्शे का मुद्दा उठाया था. कहा जा रहा है कि 20 रियाल के इस बैंक नोट को जी-20 समिट की स्मारिका के तौर पर निकाला गया था.

क्या था विवादित नोट पर?सऊदी अरब ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर और गिलगिट-बाल्टिस्तान को पाकिस्तान के नक्शे से हटा दिया था. विवादित बैंक नोट में एक तरफ किंग सलमान और जी-20 सऊदी समिट का लोगो था. जबकि दूसरी तरफ जी-20 देशों को वैश्विक मैप था.

ये भी पढ़ें:- दिल्ली में कोरोना से बिगड़े हालात, शव जलाने के लिए करना पड़ रहा घंटों इंतजार

जी-20 सम्मेलन इसी हफ्ते
कोरोना वायरस महामारी के साए में जी-20 देशों के नेताओं का शिखर सम्मेलन इसी सप्ताह सऊदी अरब में होने वाला है और इसके अब तक की पारंपरिक बैठकों से हटकर होने के पूरे आसार हैं. ये बैठक डिजिटल होगी और इसमें दुनिया के धनी और विकासशील देशों के नेताओं का जमावड़ा नहीं होगा. इसके अलावा विभिन्न देशों के शासकों, राष्ट्रपतियों और प्रधानमंत्रियों के बीच बंद कमरों में होने वाली बैठकें भी नहीं होंगी. नेताओं के लिए यादगार तस्वीरें खिंचाने का अवसर भी नहीं होगा.

Source link

Must Read

spot_img
%d bloggers like this: