HomeNEWSPunjabफ्रांस में मुस्लिमों पर नए चार्टर वैल्यू को स्वीकार करने के लिए...

फ्रांस में मुस्लिमों पर नए चार्टर वैल्यू को स्वीकार करने के लिए बनाया जा रहा है दबाव

फ्रांस की मुस्लिम काउंसिल के सदस्य इस सप्ताह राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन से मुलाकात करेंगे. (File Photo)

फ्रांस की मुस्लिम काउंसिल के सदस्य इस सप्ताह राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन से मुलाकात करेंगे. (File Photo)

New Republican Charter: फ्रांस की मुस्लिम काउंसिल के सदस्य इस सप्ताह राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन से मुलाकात करेंगे. मुस्लिम काउंसिल (Muslim Council In France) द्वारा देश के नए रिपब्लिकन चार्टर के वैल्यू की समीक्षा की पुष्टि के बाद इमाम इसपर हस्ताक्षर करेंगे.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    December 1, 2020, 11:15 AM IST

पेरिस. फ्रांस की मुस्लिम काउंसिल के सदस्य इस सप्ताह राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन (emmanuel macron french president) से मुलाकात करेंगे. मुस्लिम काउंसिल द्वारा देश में नए रिपब्लिकन चार्टर के वैल्यू (New Republican Charter’s Value) की समीक्षा की पुष्टि के बाद इमाम हस्ताक्षर करेंगे. सीएफसीएम ने अब यह योजना बनाई कि है कि वह चार्टर पर हस्ताक्षर करने के बदले में इमाम को मान्यता देगा. परिषद (CFCM), जो नौ अलग-अलग मुस्लिम संघों का प्रतिनिधित्व करती है, को कथित तौर पर फ्रांस के रिपब्लिकन वैल्यू को मान्यता देने को कहा गया है. यह एक किस्म का इस्लाम का राजनीतिक आंदोलन के तौर पर और विदेशी प्रभावों को खारिज करने की दिशा में एक पहल है.

हम सभी नए चार्टर वैल्यू को लेकर सहमत नहीं है: हाफिज

सीएमएससीएम के उपाध्यक्ष और पेरिस ग्रैंड मस्जिद के रेक्टर-एड्डिन हाफिज ने कहा कि हम सभी नए चार्टर वैल्यू को लेकर सहमत नहीं हैं. इस नए चार्टर वैल्यू में क्या-क्या शामिल किया जाएगा, हमें नहीं पता है. उन्होंने कहा कि हम इस समय फ्रांस में इस्लाम के लिए ऐतिहासिक मोड़ पर खड़े हैं और हम मुसलमानों को हमारी जिम्मेदारियों का सामना करना पड़ रहा है.

ये भी पढ़ें: प्रदूषण के मामले में पाकिस्तान का लाहौर सबसे ऊपर, दूसरे नंबर पर भारत की राजधानी दिल्ली खुलासा! 62 लोगों की टीम ने की ईरानी परमाणु वैज्ञानिक फखरीजादेह की हत्या, मोसाद है शामिल

हाफिज ने कहा कि वह आठ साल पहले बहुत अलग तरीके से सोचता था. इस्लाम धर्म के अनुयायी मोहमद मेराह ने टूलूज़ में हमला कर दिया. उसके बाद से मैं अलग तरह से सोचने-विचारने लगा. हाफिज याद करते हुए कहते हैं कि फ्रांसीसी राष्ट्रपति सरकोजी ने मुझे 5 बजे सुबह फोन करके नींद में से जगाया था. मैंने उनसे कहा उसका नाम शायद मोहम्मद है लेकिन वह एक अपराधाी है. मैंने उनसे कहा था कि मैं नहीं चाहता हूं कि अपराध को मेरे धर्म से जोड़ा जाए.

सीएफसीएम की यह योजना है कि वह नए चार्टर पर हस्ताक्षर करने वाले फ्रांस के सभी इमाम का रजिष्ट्रेशन करें और इसके बदले में वह उन्हें मान्यता प्रदान करे.

Source link

Must Read

spot_img
%d bloggers like this: