HomeNEWSPunjabपंचायत सदस्य व समाज सेवी संस्थायों ने कहा पंचायत सचिव ने कराया...

पंचायत सदस्य व समाज सेवी संस्थायों ने कहा पंचायत सचिव ने कराया झूठा पर्चा।

-शैहणा में पंचायत सचिव पर गाली गलौच किए जाने का आरोप-
-कई बार संर्पक करने के बाद भी सचिव नहीं रख रहे अपना पक्ष-
भदौड़ 4 अप्रैल (विजय जिंदल) भदौड़ के नजदीकी गांव शैहणा में पंचायत व पंचायत सचिव के बीच हुई नोकझोंक के बाद सरपंच के बेटे पर प्रथमिकी दर्ज कराए जाने के बाद आज 10 के करीब पचों व लगभग सारी समाज सेवी संस्थायों ने खुलकर सरपंच के बेटे के पक्ष में संर्घष का बिगुल बजा दिया है।
-कौर कौन हैं एफआईआऱ के विरोध में-
उपरोक्त मामले सबंधी ग्राम पंचायत शैहणा के पंच सतबीर सिंह, गुरजीत सिंह, जसपाल कौर, मनजीत कौर, रौशन लाल शर्मा, हरजीत सिंह, सर्वजीत कौर, स्वरन सिंह, कर्मजीत कौर, गुरप्रीत सिंह के अलावा समाजिक संस्था शहीद भगत सिंह क्लब, बीबडियां माईयां कमेटी, पुत्री पाठशाला कमेटी, बाबा बालमीक क्लब, बाबा साहिबजादा अजीत सिंह क्लब, बाबा हीरा सिंह स्र्पोर्टस क्लब, के अलावा सफाई सेवक युनियन खुलकर सरपंच के लड़के सुखविंदर सिंह कलकत्ता के पक्ष में आ गए और संवाददाताओं से बातचीत करते हुए पंचायत सचिव जगदेव सिंह गाली गलौच करने व गांव के विकास कार्य में अडिंगा लगाए जाने की बात कह कर सचिव पर ईंट उठाकर हमला किए जाने की बात कह रहे हैं ।
उन्होंने समूहिक तौर पर कहा कि उपरोक्त सचिव लंबे समय से पंचायत व्दारा किए जा रहे विकास कार्यो में बे बजह अडिंगा कर लगातार गांव के विकास कार्यो को प्रभावित करता आ रहा था सुखविंदर सिंह या किसी पंचायत सदस्य ने सचिव जगदेव सिंह से कोई मारपीट नहीं की न ही अपशब्द कहे बल्कि सचिव जगदेव सिंह नें 2 अप्रैल को शैहणा के पंचायत घर में बैठक बुलाई जिस प्रति ग्राम पंचायत की महला सरपंच मलकीत कौर को कोई जानकारी नहीं दी जिस प्रति पंचायत सदस्यों ने नाराजगी जाहिर करते हुए इसका कारण पूछा तो उपरोक्त सचिव गाली गलौच पर उतारू हो गया और ईंट उठाकर हमला करने लगा इतने पर सरपंच का लड़का वहां पहुचा और ईंट को पकड़ते हुए उसे ऐसा करने से रोक दिया इतने पर सचिव आग बाबूला होकर सचिव वहां से चले गए जाते जाते वे कह गए कि मैं तुम्हें देख लूंगा उसके बाद उसने थप्पड़ आदि की झूठी कहानी बना ली।
-नही रख रहे अपना पक्ष –
उपरोक्त मामले सबंधी पंचायत सचिव का पक्ष लेने के लिए सचिव जगदेव सिंह से कई बार संर्पक साधा गया परंतु वे अपना पक्ष रखने में टाल मटौल करते रहे और थोड़े समय बाद पक्ष बताने की बात करते रहे।

Must Read

spot_img
%d bloggers like this: