Saturday, February 24, 2024
HomeNEWSPUNJABन्यूक्लिक एसिड टेस्ट की मजबूत क्षमता महामारी की रोकथाम के लिए अहम

न्यूक्लिक एसिड टेस्ट की मजबूत क्षमता महामारी की रोकथाम के लिए अहम

बिगड़ती कोरोना महामारी की स्थिति के मद्देनजर फ्रांस ने घोषणा की कि 30 अक्तूबर से फिर एक बार पूरे देश में लॉकडॉउन शुरू होगा। जर्मनी ने भी 2 नवंबर से रेस्त्रां, बार, थिएटर, खेल के मैदान, जिम, ब्यूटी सैलून आदि बंद करने की घोषणा की। इसके अलावा, जर्मनी के नूर्नबर्ग, फ्रांस के फ्रैंकफर्ट, एरफर्ट, स्ट्रासबर्ग, चैक गणराज्य के प्राग आदि क्षेत्रों में इस साल का क्रिसमस बाजार रद्द होगा।
सर्वविदित है कि कोविड-19 महामारी वर्तमान में मौजूद सबसे बड़ा संकट है। महामारी फैलने के बाद सिर्फ 7 महीनों में 10 लाख से अधिक लोगों की मौत हो गई और करोड़ों लोग संक्रमित हुए। अब मामलों की संख्या लगातार बढ़ रही है, जिससे विश्व अर्थव्यवस्था पर बड़ा प्रभाव पड़ा है।
निर्विवाद है कि चीन दुनिया में एकमात्र देश है, जिसने महामारी की रोकथाम में विजय पायी है और आर्थिक वृद्धि बहाल की है। महामारी फैलने के बाद चीन ने रोकथाम के सबसे व्यापक, सबसे सख्त और सबसे संपूर्ण कदम उठाये और रोकथाम की कारगर व्यवस्था स्थापित की। तथ्यों से साबित है कि वायरस के फैलाव को रोकना सबसे उपयोगी उपाय है। इसके अलावा, समय पर न्यूक्लिक एसिड टेस्ट करना छिपे हुए संकट को हटाने का कारगर तरीका है।
चीन सरकार ने संसाधन को इकट्ठा कर सिर्फ 9 दिनों में वुहान शहर में 65 लाख लोगों का न्यूक्लिक एसिड टेस्ट पूरा किया। पेइचिंग के शिनफाती थोक बाजार में महामारी फैलने के बाद, पेइचिंग ने एक हफ्ते में करीब 23 लाख लोगों का न्यूक्लिक एसिड टेस्ट किया। जिस निवासी के संक्रमित होने की आशंका रहती है, उसे उसके मोबाइल फोन के जरिए सूचना मिलती है। हाल में शिनच्यांग उइगुर स्वायत्त प्रदेश के काशगर क्षेत्र में लोगों का ध्यान आकर्षित हुआ। 24 अक्तूबर को महामारी फैलने के बाद से 27 अक्तूबर तक, काशगर में सिर्फ 4 दिनों में 47 लाख 46 हजार से अधिक लोगों का न्यूक्लिक एसिड टेस्ट करवाया गया।
न्यूक्लिक एसिड टेस्ट की मजबूत क्षमता और रोकथाम की संपूर्ण व्यवस्था के चलते अब काशगर में महामारी के लगातार फैलने की संभावना नहीं है। महामारी की स्थिति में सभी देशों के लोग जुड़े हुए हैं। दुनिया के हर क्षेत्र में वायरस के फैलाव को रोकने पर ही हम अंततः विजय पा सकते हैं, नहीं तो महामारी के लगातार फैलने का खतरा फिर भी बना रहेगा। आशा है कि सभी लोग महामारी को सही तरह से समझेंगे और आत्म-सुरक्षा पर जोर देंगे, ताकि हम जल्द ही महामारी की रोकथाम में विजय हासिल कर सकें।
(साभार—चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

Source link

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments