ठग दुल्हन… मुलाकात कर युवक से बढ़ाई नजदीकियां, यूं मोटी राशि वसूल चल पड़ी नए दूल्हे की तलाश में

0
321

मोगा। एक युवक की अमनदीप कौर नामक युवती से एक पार्टी में मुलाकात हुई तो धीरे-धीरे नजदीकियां बढ़ने लगी। अमनदीप कौर के साथ जल्द ही उसके शारीरिक संबंध बन गए। बाद में 2016 में अमनदीप ने युवक पर शादी का दबाव बनाया और कोर्ट मैरिज कर ली। युवती एक महीने तक साथ रही और फिर दहेज एक्ट में केस कर उससे मोटी राशि वसूलकर नए दूल्हे की तलाश में चली गई।
युवक ने मामले की शिकायत पुलिस में की तो खुलासा हुआ कि इससे पहले भी वह दो शादियां रचा चुकी थी। जांच में पता चला था कि अमनदीप कौर के इस गोरखधंधे में उसकी दो चचेरी बहनें एक दोस्त व उसका पति भी शामिल था। मामले में महिला बबलजीत की गिरफ्तारी के बाद बाकी सभी आरोपित फरार चल रहे हैं।
रिमांड के दौरान पुलिस गिरफ्तार की गई बबलजीत उर्फ बबली से कुछ भी नहीं उगलवा पाई। उधर गैंग की सरगना मास्टरमाइंड अपनदीप कौर व गैंग के दूसरे सदस्यों के घरों पर बबली की गिरफ्तारी के बाद से ताले लटक चुके हैं। हालांकि पुलिस मोबाइल फोन कॉल के माध्यम से उन्हें ट्रेस करने में जुटी हुई है। उधर पुलिस ने इस मामले में गिरफ्तार की गई बबली का एक दिन रिमांड खत्म होने पर सीजेएम कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में फिरोजपुर जेल भेज दिया गया है।
चक्की वाली गली निवासी कमलजीत सिंह ने पुलिस को शिकायत दी थी कि आरोपिरत हनीट्रैप में फंसाकर अमीर परिवार के युवकों पर शादी का दबाव बनाती थीं, बाद में मोटी रकम लेकर नए शिकार की तलाश में चली जाती थीं। हालांकि एएसआइ गुरदेव सिंह का कहना है कि बबलजीत कौर का कहना है कि शुरू में वह अमनदीप कौर का सहयोग करती थी, लेकिन पति से तलाक के बाद उसे नहीं पता कि अमनदीप किस प्रकार से लोगों को फंसाती है, वर्तमान में वह कहां रह रही है।
हालांकि सूत्रों का कहना है कि बबलजीत को पुलिस ने कुछ और युवकों के नाम बताए हैं जो ब्लैैकमेलिंग करने वाले इस गैंग में शामिल थे, पुलिस उन तक पहुंचने का प्रयास कर रही है।
जेएनएन, मोगा। एक युवक की अमनदीप कौर नामक युवती से एक पार्टी में मुलाकात हुई तो धीरे-धीरे नजदीकियां बढ़ने लगी। अमनदीप कौर के साथ जल्द ही उसके शारीरिक संबंध बन गए। बाद में 2016 में अमनदीप ने युवक पर शादी का दबाव बनाया और कोर्ट मैरिज कर ली। युवती एक महीने तक साथ रही और फिर दहेज एक्ट में केस कर उससे मोटी राशि वसूलकर नए दूल्हे की तलाश में चली गई।
युवक ने मामले की शिकायत पुलिस में की तो खुलासा हुआ कि इससे पहले भी वह दो शादियां रचा चुकी थी। जांच में पता चला था कि अमनदीप कौर के इस गोरखधंधे में उसकी दो चचेरी बहनें एक दोस्त व उसका पति भी शामिल था। मामले में महिला बबलजीत की गिरफ्तारी के बाद बाकी सभी आरोपित फरार चल रहे हैं।
रिमांड के दौरान पुलिस गिरफ्तार की गई बबलजीत उर्फ बबली से कुछ भी नहीं उगलवा पाई। उधर गैंग की सरगना मास्टरमाइंड अपनदीप कौर व गैंग के दूसरे सदस्यों के घरों पर बबली की गिरफ्तारी के बाद से ताले लटक चुके हैं। हालांकि पुलिस मोबाइल फोन कॉल के माध्यम से उन्हें ट्रेस करने में जुटी हुई है। उधर पुलिस ने इस मामले में गिरफ्तार की गई बबली का एक दिन रिमांड खत्म होने पर सीजेएम कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में फिरोजपुर जेल भेज दिया गया है।
चक्की वाली गली निवासी कमलजीत सिंह ने पुलिस को शिकायत दी थी कि आरोपिरत हनीट्रैप में फंसाकर अमीर परिवार के युवकों पर शादी का दबाव बनाती थीं, बाद में मोटी रकम लेकर नए शिकार की तलाश में चली जाती थीं। हालांकि एएसआइ गुरदेव सिंह का कहना है कि बबलजीत कौर का कहना है कि शुरू में वह अमनदीप कौर का सहयोग करती थी, लेकिन पति से तलाक के बाद उसे नहीं पता कि अमनदीप किस प्रकार से लोगों को फंसाती है, वर्तमान में वह कहां रह रही है।
हालांकि सूत्रों का कहना है कि बबलजीत को पुलिस ने कुछ और युवकों के नाम बताए हैं जो ब्लैैकमेलिंग करने वाले इस गैंग में शामिल थे, पुलिस उन तक पहुंचने का प्रयास कर रही है।