एससी कमिशन की सदस्य ने पुलिस को भेजा नोटिस,सफाई कर्मचारियों के साथ नाइंसाफी असहनीय : गेजा राम

0
288

बरनाला जिले में से मिली ईपीएफ के कथित 2.5 करोड़ के घपले के मामले की शिकायतों के मद्देनजर ठेकेदार के साथ-साथ इस लिए नगर कौंसिल के जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ एफआइआर दर्ज करवाने के लिए की हिदायत की गई है। यह बात सफाई कर्मचारी कमिशन पंजाब के चेयरमैन गेजा राम ने जिला प्रबंधकीय परिसर के कांफ्रेंस हाल में सफाई सेवकों की यूनियनों के प्रतिनिधियों व विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ की मीटिग की अध्यक्षता करते हुए कही।
उन्होंने कहा कि पंजाब में से ठेकेदारी सिस्टम बंद करवाया जाएगा, जिससे सफाई सेवकों के शोषण को रोका जा सके व कच्चे सफाई सेवकों को पक्का करने के लिए कमिशन द्वारा जनवरी माह में मुख्य मंत्री को रिपोर्ट सौंपी जाएगी। इस अवसर पर कमिशन के उप चेयरमैन राम सिंह भी उपस्थित थे।
किरत विभाग के अधिकारियों को 10 दिनों के अंदर-अंदर कार्रवाई करके रिपोर्ट जमा करवाने की भी हिदायत की। इस अवसर पर उन्होंने सिविल अस्पताल बरनाला में भी सफाई कर्मचारियों द्वारा किए जा रहे काम संबंधित भी रिपोर्ट पेश करने की हिदायत की।
बरनाला दौरे के दौरान उन्होंने सफाई सेवकों की मुश्किलें भी सुनी व इनके हल के लिए विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ विचार विमर्श किया गया, जिससे सफाई सेवकों के साथ किसी तरह की नाइंसाफी न हो व उनको बनता हक मिल सकें। उन्होंने कहा कि सफाई सेवकों का शोषण करने वाले ठेकेदारों के लाइसेंस रद्द किए जाएंगे। अगर ठेकेदार ने सफाई सेवकों को उनकी बनता वेतन नहीं दिया गया, तो उसकी रिकवरी भी करवाई जाएगी।

उन्होंने कहा कि अगर इस में किसी अधिकारी की शामिल पाई गई, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने जिले के समूह अधिकारियों को कहा कि उनके अधीन काम कर रहे सफाई सेवकों का वेतन सीधे तौर पर उनके बैंक खातों में डालना यकीनी बनाया जाएं व वेतन के रुपए ठेकेदारों को ना दिए जाएं। उन्होंने कहा कि जिन विभागों में सफाई सेवकों की असामियां रिक्त है, उनकी सूचना कमिशन को दी जाएं, जिससे असामियां को भरने संबंधित अगली कार्रवाई की जा सके।
डीसी तेज प्रताप सिंह फूलका ने चेयरमैन गेजा राम को भरोसा दिलाया कि जिले में सफाई सेवकों को किसी तरह की मुश्किल का सामना नहीं करने दिया जाएगा व उनका वेतन उनके बैंक खातों में डालना यकीनी बनाया जाएगा। उन्होंने समूह अधिकारियों को सफाई सेवकों संबंधित मांगी गई सूचना कमिशन को 10 दिनों के अंदर-अंदर पहुंचती करनी यकीनी बनाने के लिए भी कहा। इस अवसर पर एडीसी जरनल मैडम रूही दुग्ग, एडीसी (विकास) अरुण कुमार जिदल के अलावा अन्य अधिकारी व सफाई सेवक यूनियनों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।