एसएस जैन सभा जैन स्थानक में

0
253
आज एसएस जैन सभा जैन स्थानक में श्रमण संघीय सलाहकार दिनेश मुनि डॉक्टर दीपेंद्र मणि पुष्पेंद्र मुनि के पावन सानिध्य में 120 दिन महत्वपूर्ण होती का विशाल कार्यक्रम आयोजित किया गया ऐसे जनसभा के जैन स्थानक के पूर्व देवेंद्र दरबार में आयोजित इस टाइप में बीड़ लोकाशा जयंती पर विभिन्न अनुवाद किया गया और साथ ही यहां पर चातुर्मास कर रहे दीपेंद्र मुनि को उनके जन्मदिवस पर 33 जन्मदिन की लख-लख बधाइयां प्रेषित की गई साथ ही श्रद्धालु जनों ने भी अपने अपने भावों के माध्यम से गीतिका के माध्यम से अपने अपने विचार उनके चरणों में रखें कि उन्होंने चातुर्मास में क्या पाया क्या छोड़ा और छात्र ध्यान साधना अपने जीवन का दीपेंद्र मणि ने कहा संत का जीवन महान जीवन होता है जहां सम्राट का अंत होता है वहां संत का जीवन प्रारंभ होता है श्रावक का प्रतिदिन ड्रेस बदलता है * एड्रेस नहीं बदलता है और संत का ड्रेस वही रहता है एड्रेस बदलता है साधु घूमता हुआ अच्छा लगता है श्रमण संघीय सलाहकार श्री दिनेश मुनि जी ने अपने प्रवचन में दीपेंद्र मुनि जी के जन्मदिवस पर शुभकामना देते हुए कहा दीपेंद्र मुनि का जन्म पंजाब के रोपड़ शहर में हुआ पिता विनोद माता शशि कपूर ने इन्हें 1994 में आचार्य सम्राट श्री देवेंद्र मुनि जी महाराज के चरणों में समर्पित किया 1998 में उदयपुर राजस्थान में विकास कपूर की जैन भागवती दीक्षा संपन्न हुई और उन्हें आचार्य देवेंद्र मुनि का शिष्य होने का गौरव प्राप्त हुआ उन्होंने गुरु चरणों में रहकर जैन आगम जैन दर्शन भारतीय दर्शन का गहराई से अध्ययन किया m.a. प्राकृत में उन्होंने गोल्ड मेडल प्राप्त किया तथा पूरी यूनिवर्सिटी को टॉप किया दीपेंद्र मुनि ने आचार्य देवेंद्र मुनि जीके महत्वपूर्ण ग्रंथ कर्म विज्ञान वॉल्यूम 1 से 9 पर शोध कर पीएचडी प्राप्त की दीपेंद्र मुनि के उज्जवल भविष्य की मंगल कामना करते हुए उन्हें आशीर्वाद दिया एसएस जैन सभा के प्रधान प्रेमचंद जैन तथा समस्त सभा के सदस्य महिला मंडल युवा मंडल को मुनि श्री ने बहुत-बहुत साधुवाद दिया और निरंतर धर्म के मार्ग पर आगे बढ़ने का संदेश दिया इस अवसर पर उन्होंने सिख समाज के गुरु नानक देव जी को याद करते हुए कहा नानक देव मानव जाति के उद्धारक रहे हैं उन्होंने मानव जाति के विकास के लिए बहुत कार्य किए जैन समाज और सिख समाज का आत्मीय संबंध सदा से रहा है और रहेगा नानक देव एक विरले गुरु थे जिनको 550 वर्ष हो गए फिर भी आज जनता उन्हें याद करती है नतमस्तक होती है कार्यक्रम के पश्चात समस्त श्रद्धालुओं के लिए प्रसाद का आयोजन रखा गया तथा सभी को प्रभावना के रूप में चार प्रकार की वस्तुएं प्रदान की गई और सभी उपस्थित जनसमूह ने दीपेंद्र मणि जी को दीर्घ जीवन की शुभकामनाएं दी तथा सभा के प्रधान प्रेमचंद जैन ने महाराष्ट्री का अभिनंदन किया तथा सभी का आभार व्यक्त किया